Gora gora gal thara song lyrics । Seema Mishra । Veena Music

 

Gora gora gal thara song lyrics



Gora gora gal thara song lyrics







गोरा गोरा आ....
गोरा गोरा गाल थारा घुंघटीये में राखीजे 
गोरा गोरा गाल थारा घुंघटीये में राखीजे
निजर....कि निजर कोई लग जावेगी मेळे में
ओ थारे निजर कोई लग जावेगी मेळे में


बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
गेल... गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में
ओ थांके गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में


घायल हो जावेगी दुनिया हळवा हळवा चालो
जुलम करे थारी आँखड़ल्या काजळियो मत घालो
ओ...घायल हो जावेगी दुनिया हळवा हळवा चालो
जुलम करे थारी आँखड़ल्या काजळियो मत घालो
हो थारा नैणा तीर कटार कोई डुबेलो मझधार
थारा नैणा तीर कटार कोई डुबेलो मझधार
मत ना...मत ना तीर चलाज्यो जी मेळे में
कोई थेथो मत ना तीर चलाज्यो जी मेळे में


मेळे में चाले तो गौरी घुंघटियो निकाळीज्यो
कि निजर.... निजर कोई लग जावेगी मेळे में
थारे निजर कोई लग जावेगी मेळे में


न्यहाल हुई में बादिला जो थारे जिस्या भरतार मिल्या
मदछकिया छैला म्हारी सैजां रा सिणगार
सिर पर साफो किलंगीदार जी पर गोटे की किनार
सिर पर साफो किलंगीदार जी पर गोटे की किनार
मत ना ...मत किने बतळा ज्यो जी मेळे में
हो थेथो मत किने बतळा ज्यो जी मेळे में


बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
गेल... गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में
ओ थांके गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में


उड़ उड़ जावे लाल चूनडी़ हवा घूंघट खोले
फूल झड़े सौ रंग बिखरे तूं कोयलडी़ सी बोले
ओ..उड़ उड़ जावे लाल चूनडी़ हवा घूंघट खोले
फूल झड़े सौ रंग बिखरे तूं कोयलडी़ सी बोले
थारा काळा काळा केश ज्यारें बादळिया रो भेष
ओ थारा काळा काळा केश ज्यारें बादळिया रो भेष
मत ना..मत चोट्यां छितराजे ये मेळे में
ओ गोरी मत चोट्यां छितराजे ये मेळे में


मेळे में चाले तो गौरी घुंघटियो निकाळीज्यो
निजर.... कि निजर कोई लग जावेगी मेळे में
थारे निजर कोई लग जावेगी मेळे में


प्रीत डोर से बंध गयी मैं तो साजन थांके साथ
थांके सागे दिन कटे और थांके सागे रात
रेवो हर दम साथ-साथ सुणले म्हारे मन री बात
रेवो हर दम साथ-साथ सुणले म्हारे मन री बात
भूल...भूल बिसर मत जा ज्यो जी मेळे में
ओ थे तो भूल बिसर मत जा ज्यो जी मेळे में


गोरा गोरा गाल थारा घुंघटीये में राखीजे 
गोरा गोरा गाल थारा घुंघटीये में राखीजे
निजर.... की निजर कोई लग जावेगी मेळे में
ओ थारे निजर कोई लग जावेगी मेळे में


बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
बांकड़ली मूंछ्यां ने थोड़ी निची निच राखीज्यो
गेल... गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में
ओ थांके गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में
निजर कोई लग जावेगी मेळे में
ओ थांके गेल कोई पड़ जावेगी जी मेळे में


इस गीत के बारे में...


यह एक राजस्थानी लोकगीत है जिसको सीमा मिश्रा और सतीश देहरा ने गाया है । इस गीत को म्यूजिक निर्मल मिश्रा ने दिया है।

इस गीत में एक साजन अपनी गोरी की आंखों और गालों की प्रशंसा करते हुए नसीहत देता है कि अपने गानों को घुंघट में छुपा के रखना वरना मेले में आपको कहीं नजर लग जाएगी । इस पर गोरी भी साजन की मूछों की प्रशंसा करते हुए कहती है अपनी मूंछों पर ताव थोड़ा कम रखना नहीं तो आपकी मूछों पर कोई लड़की फिदा हो जाएगी । गीत के अंत में गोरी साजन से कहती है कि मैं आपके प्रेम के बंधन से बंधी हुई हूं आपके साथ ही मेरा दिन कटेगा और आपके साथ ही मेरी रात कटेगी आप कहीं मेरे को छोड़कर मत चले जाना ।


About this song ...


It is a Rajasthani folk song sung by Seema Mishra and Satish Dehra. The song has been given by the music Nirmal Mishra.

In this song, a saajan praises his gori's eyes and cheeks, advising that you keep your cheeks hidden in the veil or else you will be seen somewhere in the fair. On this, Gori also praises Saajan's mustache and says that if you keep a little bit on your mustache, other then a girl will fall on your mustache. At the end of the song, Gori tells Sajan that I am bound by the bond of your love, my day will be spend with you and with you my night will be spend, do not leave me alone.


Casting team.....


Song -  Gora gora gal thara

Album - lehriyo part 2

Singer- Seema Mishra, Satish dehra

Music - Nirmal Mishra

Lyrics - Traditional

Producer - KC Maloo



u

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां