Chand chadhyo gignar song lyrics । Seema Mishra, Mukesh Bagada

 

Chand chadhyo gignar song lyrics








Chand chadhyo gignar song lyrics


चाँद चढ्यो गिगनार..  
किरत्यां ढळ आई आधी रात 
पिवजी अब तो घरां पधारो 
मारुणी थारी बिलखे छे जी बिलखे छे


ज्यो ज्यो तेल बळे दिवले में धण बाती सरकावे जी
ज्यो ज्यो तेल बळे दिवले में धण बाती सरकावे जी
नहीं आयो  मदछकियो रसियो दिवलो नाड़ हिलावे जी
दिवले स्यूँ झुंझलाए गौरी, दिवलो दियो बुझाय
मारुणी थारी बिलखे छे जी बिलखे छे


सिसक सिसक कर गोरी रोवे तकियों काळो करियो जी
सिसक सिसक कर गोरी रोवे तकियों काळो करियो जी
उगतो सूरज रसियो आयो हाथ पीठ पर धरियों जी
कठे बिताई सारी रात थाने उग आयो परभात
मारुनी थारी बिलखे छे जी बिलखे छे


हाथ छिटक कर गोरी बोली अब क्यूँ घरां पधारया जी
हाथ छिटक कर गोरी बोली अब क्यूँ घरां पधारया जी
सौतण के संग रात बिताई कर कर कोड सवांया जी
सौतण के संग रात बिताई कर कर कोड सवांया जी
कठे बिताई सारी रात थे तो कर दीन्यो परभात
मारुणी थारी बिलखे छे जी बिलखे छे


उक चुक मत बोलो गोरी मत ना देवो ताना जी
उक चुक मत बोलो गोरी मत ना देवो ताना जी
साथीडा़ रा संग रात बिताई खेल्या चोपड़ पासा जी
साथीडा़ रा संग रात बिताई खेल्या चोपड़ पासा जी
बठे बिताई सारी रात म्हाने उग आयो परभात
गोरी मुस्काओ जी , मुस्काओ जी


चंदो गयो सिधार देखो उग आयो परभात
म्हारा अब आया भरतार ..
मनड़ो मुळके छे जी मुळके छे


चाँद चढ्यो गिगनार..  
किरत्यां ढळ आई आधी रात 
पिवजी अब तो घरां पधारो 
मारुणी थारी बिलखे छे जी बिलखे छे


इस गीत के बारे में...


यह एक बहुत ही प्रसिद्ध राजस्थानी परंपरा गीत लोकगीत हैं जिसको सीमा मिश्रा और मुकेश बागड़ा ने गाया है । इस गीत को म्यूजिक निर्मल मिश्रा ने दिया है ।

इस गीत में एक सजनी की विरह व्यथा को बताया गया है कि कैसे एक सजनी अपने हाथों में मेहंदी लगा कर आंखों में काजल डाल के अपने साजन के इंतजार में समय गुजार रही है। सजनी बार-बार चांद तारों की तरफ देखती है और सोचती है कि रात ढलने को आइए चांद भी आसमान की ऊंचाई पर हैं अभी तक उसके साजन घर क्यों नहीं आए । सजनी के इंतजार की समय सीमा पार होने के कारण सजनी का इंतजार संदेह में बदलने लगता है और उसके मन में पति के लिए गलत गलत ख्याल आने लगते हैं।


About this song ...


This is a very famous Rajasthani tradition folk song sung by Seema Mishra and Mukesh Bagda. The song has been given by the music Nirmal Mishra.

In this song, the sadness of a Sajni is told about how a Sajni is spending time waiting for her Sajan by putting kajal in her eyes by applying Mehndi in her hands. Sajni looks at the moon stars again and again and thinks that the moon is at the height of the sky for the night to fall, yet why did not her Sajan come home. Due to the time limit of waiting for Sajni, Sajni's wait starts turning into doubt and she starts thinking wrong for her husband.



Casting team.....


Song -  Chand chadyo gignar

Album - Chand chadyo gignar

Singer- Seema Mishra,  Mukesh bagada

Music - Nirmal Mishra

Lyrics - Traditional

Producer - KC Maloo


Play the song..


u

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां